उदयपुर जिले के गोगुन्दा में 45 कोरोना संक्रमित मरीज मिले

उदयपुर (कांतिलाल मांडोत) उदयपुर में कोरोना मरीजों का सिलसिला जारी है। उदयपुर में उपचाराधीन मरीजो में बढ़ोतरी हो रही है। राज्य सरकार ने आज से आगमी 24 मई तक लोकडाउन लगाया है। कोरोना वायरस के संक्रमण का आंकड़ा चार लाख के पार हो गया है। इसमें तीन लाख से भी ज्यादा मरीज ठीक हुए है।
सायरा चिकित्सा अधिकारी आर एस मीणा ने बताया कि आज गोगुन्दा व सायरा में 45 कोरोना मरीज मिले है। सभी को होमाऐसोलेट किया गया है। महामारी के रूप में कराह रही जनता को बचाने का एक ही विकल्प शेष था। सरकार ने लोगो की जान बचाने के लिए लोकडाउन लगा ही दिया। ऑक्सीजन की कमी के कारण टूटती सांसो को ध्यान में रखकर सरकार व्यवस्था करे। राजस्थान सहित अनेज राज्यो की शिकायत है कि उन्हें ऑक्सीजन नही मिल रहा है। युद्ब स्तर पर ऑक्सीजन की व्यवस्था की जानी चाहिए।
संकट की इस घड़ी में हमे एक दूसरे के काम आना चाहिए। लेकिन समाज मे नैतिक ताना बाना खत्म हो रहा है। लोगो को साथ आने के बजाय लोग कालाबाजारी पर उतर आये है।  हमे परिस्थिति की गंभीरता को समझना है। सबसे डरावनी बात यह है कि कोरोना संक्रमित मरीजो  की संख्या महानगरों, नगरों के बाद गांवो में तेजी से बढ़ रही है।
उदयपुर जिले के गोगुन्दा, सायरा, कोटड़ा,झाड़ोल आदि क्षेत्र में कोरोना के एक दो केस मिलते थे। लेकिन दुर्भाग्य है कि इन इलाकों में रोज के अनेक कोरोना मरीज मिल रहै है। गांवो में  अभी भी मजाक समझने लग रहे है। वे समय रहते व्यवस्थित इलाज भी नही करा पा रहे है।गांवो में लोग झोलाछाप डॉक्टरों को अपनी जिंदगी सौंपने में तनिक भी परहेज नही करते है  कोरोना महामारी में झोलाछाप सक्रिय है। गोगुन्दा तहसील के अनेक गांवो में लोगो का इलाज किया जा रहा है। मरीजो को  इस महामारी के बीच ट्रिप्स भी चढ़ा देते है।बिना जांच इलाज करना उस वक्त मरीजो को महंगा पड़ता है। जब मरीजो में कोरोना के लक्षण नजर आते है। पुलिस के डर से क्लिनिक बन्द कर घर पर इलाज करते है।यह बहुत खतरनाक है। अब सतर्कतापूर्वक काम करना होगा।
आज से लोकडाउन लगने के बाद लोगो को यह जान लेना है कि घर से बाहर नही निकलना है। गांवो में बढ़ते संक्रमण के बीच कोरोना की चेन को तोड़ने का सही विकल्प लोकडाउन है। हमे घर से अनावश्यक बाहर नही निकलना है। शहर में ऑक्सीजन की कमी को निपटने के लिए सरकार सभी आवश्यक कार्य किए है। गोगुन्दा व सायरा में सूरत ,मुंबई से आने वाले प्रवासियों को 14 दिनों के लिए कवारेंनटाइल किया जा रहा है।खाद्य सामग्री,दूध, सब्जियों के लिए समय निर्धारित है। आपातकालीन स्थिती को छोड़कर वाहन का उपयोग नही करना है।
लोकडाउन का भंग करने पर गोगुन्दा और सायरा थाना पुलिस आपके खिलाफ केस  दर्ज कर कानूनी कार्रवाई कर सकती है।सभी को जो जहाँ पर है वही रहना है।अस्पताल स्वास्थ्य जांच के लिए कतारबद्ध है।गांवो  में फैलती महामारी से चिकित्सा विभाग की चिंता बढ़ गई है। गोगुन्दा तहसील की  सुव्यवस्थित चिकित्सा व्यवस्था से आने वाले मरीजो को भरपूर सहूलियत मिल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *