पिछले दस दिनों में कर्फ्यू और लॉक डाउन के कारण 46 हजार करोड़ के व्यापार का नुकसान

देश के विभिन्न राज्यों में पिछले दस दिनों में रात्रि कर्फ्यू और आंशिक लॉक डाउन के कारण लगभग अब तक लगभग 46 हजार करोड़ रुपये के व्यापार का नुकसान हुआ है जिसमें से खुदरा व्यापार में  लगभग रु 32 हजार करोड़ और थोक कारोबार को लगभग 14 हजार करोड़ के व्यापार का नुकसान होने का अनुमान है , यह जानकारी कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने  देते हुए बताया की कोरोना के खौफ से लगभग 60% उपभोक्ताओं ने बाज़ारों में आना बंद कर दिया है !
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष  बी.सी. भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री  प्रवीन  खंडेलवाल ने  कहा कि उपरोक्त आंकड़ा देश के नौ राज्यों से संबंधित है और इन नौ राज्यों के प्रमुख व्यापारी नेताओं से प्राप्त जानकारी के आधार पर निकाला गया है ! दोनों व्यापारी नेताओं ने कहा कि इन राज्यों से मिली जानकारी के अनुसार, महाराष्ट्र में खुदरा व्यापार में लगभग 10 हज़ार करोड़ रुपये के व्यापार का नुकसान हुआ है और थोक व्यापार में यह आंकड़ा लगभग छः हज़ार करोड़ रुपये का है, छत्तीसगढ़ में, खुदरा व्यापार में लगभग 1200 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है और थोक व्यापार में लगभग 600 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है, गुजरात में खुदरा व्यापार को लगभग 4800 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है और थोक व्यापार को लगभग 2200 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।
 भरतिया और  खंडेलवाल ने आगे कहा कि दिल्ली में खुदरा व्यापार को लगभग 3000  करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है और थोक व्यापार को लगभग 1400   करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है, कर्नाटक में खुदरा व्यापार का घाटा लगभग रु 4300 करोड़ है  जबकि थोक व्यापार का घाटा लगभग  1950 करोड़ रुपये है , पंजाब में खुदरा व्यापार को लगभग रु 900 करोड़ जबकि थोक व्यापार में नुकसान 350 करोड़ रुपये का है, राजस्थान में खुदरा व्यापार में नुकसान लगभग 1900 करोड़ रुपये है और थोक व्यापार में यह नुकसान 850 करोड़ है, मध्य प्रदेश में खुदरा व्यापार  में नुकसान लगभग  1700 करोड़ रुपये है जबकि थोक व्यापार में नुकसान लगभग रु 750  करोड़ है, उत्तर प्रदेश में खुदरा व्यापार का नुकसान लगभग रु 3800 करोड़ है जबकि थोक व्यापार घाटा रु 1500 करोड़ रुपये के लगभग है !
 भरतिया और  खंडेलवाल ने कहा कि कोविड मामलों में तेजी से वृद्धि और विभिन्न राज्यों में रात के कर्फ्यू और आंशिक लॉकडाउन को लागू करने के कारण सामान्य उपभोक्ता के मन में भय पनप गया है जिसके कारण वो बाज़ारों में जाने से बच रहे हैं और इसीलिए रिटेल बाजार में नुकसान हो रहा है जबकि ठीक व्यापार में नुकसान का मूल कारण माल की लोडिंग एवं अनलोडिंग का न होना है ! देश भर में बाज़ारों में ट्रको पर मॉल का चढ़ना या उतरना रात्रि में होता है और क्योंकि अनेक राज्यों में रात्रि कर्फ्यू है इसलिए माल की लोडिंग एवं अनलोडिंग पर बड़ा असर पड़ा है ! सामान्यत: देश भर में दिन में ट्रकों के प्रवेश पर पाबन्दी हो टी है और केवल रात्रि 9  बजे के बाद ही शहर में ट्रकों को प्रवेश की अनुमति दी जाती है और रात्रि कर्फ्यू लगने के कारण माल के उतारने और भेजे जाने पर अनेक परेशानियां आ रही हैं जिससे अंतर्राज्यीय व्यापार प्रभावित हुआ है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *