गुरुजिन स्मरणोत्सव में सूरत के देरासर-उपाश्रयों के 300 से अधिक पुजारियों को किया सम्मानित

सूरत के ज्ञानभंडारों में श्रृतज्ञान की भक्ति करने वाले कार्यसंचालकों को भी सम्मानित किया

जिनशासन के श्रेष्ठ चरित्रधर सूरि शांति के परमशिष्य जैनाचार्य जिनचंदसूरीश्वरीजी महाराज के 6 मासी समाधि पर्व पर श्री शांतिकनक श्रमणोत्सव ट्रस्ट के तहत अध्यात्म परिवार की ओर से आयोजित विराट गुरूजिनस्मरणोत्सव में 17 आचार्य भगवंत और 1000 चारित्रधरों की निश्रा में गुरूवार को सूरत के ज्ञान भंडारा में श्रृतज्ञान की भक्ति करने वाले कार्य संचालक और सूरत के देरासर – उपाश्रय के पुजारियों का सम्मान किया गया।

मजूरगेट दयालजी आश्रम में बने भव्य आध्यात्म नगरी में गुरूवार दोपहर सूरत स्थित जैन देरासर और उपाश्रयों में भगवान की पूजा करने वाले सभी पुजारियों को आमंत्रित किया गया। 300 से अधिक शहर के पुजारी उपस्थित थे। ये सभी पुजारी जो भगवान की पूजा और सेवा करते थे, उनका आध्यात्मिक परिवार द्वारा सम्मानित किया गया। सम्मान का मेतिबेन उमेदचंद रूपचंदभाई संघवी परिवार ने लाभ उठाया।

इनमें से ज्यादातर पुजारी अजैन हैं। जो बड़ी श्रद्धाभाव से देरासर- उपाश्रय में प्रभु भक्ति क रते हैं। पुजारियों के सम्मान से पहले सूरत के ज्ञानभंडारों में श्रृतज्ञान की भक्ति करने वाले कार्यसंचालकों को सम्मानित किया गया। इसके अलावा जिनचंद्रसूरीश्वरजी महाराज से उपकृत सूरत बाहर के संघों के पुजारियों को भी सम्मानित किया जाएगा।

ईश्वर और ज्ञान दुनिया के लिए वरदान है, आपको जो बुरा लगे वह दूसरों के लिए नहीं करना चाहिए: योगतिलसूरिश्वरजी महाराज

इस अवसर पर पू. सुरिसंयम शिष्य रत्न अध्यात्मसम्राट आ.भ. योगतिलकसुरिश्वरजी महाराज ने पुजारियों को प्रवचन देते हुए क हा कि भगवान और ज्ञान दुनिया के लिए आशीर्वाद हैं। ज्ञान कहता है कि आपको दूसरों के लिए बुरा काम नहीं करना चाहिए। अगर कोई आपको थप्पड़ मारता है, गुस्सा करता है, आपका शोषण करता है, झूठ बोलता है, आपका अपमान करता है, अगर आपको यह पसंद नहीं है, तो आपको दूसरों के लिए भी ऐसा नहीं करना चाहिए। यदि किसी व्यक्ति के पास धन, शारीरिक क्षमता है, लेकिन दिल से अच्छा नहीं है, तो यह राष्ट्र के लिए हानिकारक हो सकता है। हमें अच्छे लोग बनना है। चलो अच्छा होने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं।

पुजारी के सम्मान के बारे में पूज्यश्री ने कहा कि आप उस भगवान से जुड़े हैं जिसने हमें अच्छा बनाया है। यही कारण है कि आपको पूरे सूरत से सम्मानित किया जा रहा है। पूज्यश्री ने भी अंत में सभी को आशीर्वाद दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *