बिजनेस

भारतीय उत्पादों को रूस को निर्यात का बड़ा अवसर मिलने की संभावना : कैट

दो देशों के बीच युद्ध दुर्भाग्यपूर्ण है और इसे जल्द से जल्द रोका जाना चाहिए। रूस और यूक्रेन के बीच मौजूदा युद्ध ने भारतीय उत्पादों को रूसी बाजार में अपनी प्रभावशाली उपस्थिति दर्ज करने का एक बड़ा अवसर मिला है क्योंकि यूके, यूएसए और यूरोपीय संघ के देशों द्वारा रूस पर प्रतिबंध लगाने इस इन देशों से रूस को सामान की आपूर्ति बंद करने से हुए शून्य को भारतीय सामान से बदलने के लिए एक विशाल मौक़ा दिया है। युद्ध से पहले, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूरोपीय संघ, ब्रिटेन और अन्य पश्चिमी देश रूस को बड़ी मात्रा में अपना माल निर्यात कर रहे थे।

रूस के खिलाफ इन सभी देशों द्वारा प्रतिबंध लगाने के बाद इन देशों से रूस को बड़ी संख्या में माल की आपूर्ति बंद हो गई है और इसलिए वर्तमान स्थिति के तहत, रूसी व्यापारिक घरानों को अब विभिन्न सामानों की सोर्सिंग के लिए एक गंतव्य के रूप में भारत को पसंद किया जाता है। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने यह कहते हुए कहा की देश के व्यापारी इस अवसर को पूरा करने के लिए तैयार है । यह मौक़ा भारतीय छोटे निर्माताओं और व्यापारियों के लिए निर्यात करने का एक बड़ा अवसर लेकर आया है ।कई रूसी व्यापारिक घरानों द्वारा आपूर्तिकर्ताओं का पता लगाने के लिए कैट से सहायता के लिए संपर्क किया है ।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष  बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि कैट ने अपनी राज्य इकाइयों के माध्यम से विभिन्न छोटे निर्माताओं, वितरकों और व्यापारियों की पहचान की है जो रूस से कैट को मिली पहली सूची के अनुसार रूसी आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम हैं। ” व्यापारियों की प्रतिक्रिया उत्साहजनक है और विनिर्माण इकाइयां और व्यापारी रूस को माल की आपूर्ति करने के लिए अधिक इच्छुक हैं।

आवश्यकताओं के विवरण, इसके ट्रांसपोर्टेशन, भुगतान और अन्य मुद्दों पर चर्चा की जा रही है और उम्मीद है कि बहुत जल्द इसकी संरचना पूरी हो जाएगी । हम रूस को भारतीय उत्पादों के निर्यात में काफी वृद्धि देखते हैं- कहा श्री भरतिया एवं  खंडेलवाल ने । कैट ने इस मुद्दे पर गम्भीर चर्चा हेतु देश के सभी राज्यों के व्यापारी नेताओं की एक मीटिंग आगामी 4 मई को नई दिल्ली में बुलाई है ।

भरतिया और  खंडेलवाल ने कहा कि वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए रूस भारतीय निर्यात के लिए एक बड़ा बाजार हो सकता है। एफएमसीजी उत्पाद, उपभोक्ता सामान, पैक खाद्य पदार्थ, डेयरी उत्पाद, शाकाहारी खाद्य पदार्थ, रेडीमेड वस्त्र, जूते, खिलौने, कपड़ा, दो पहिया और चार पहिया वाहनों के लिए ऑटो स्पेयर पार्ट्स, ऑटोमोबाइल पार्ट्स लूब्रिकेंट ओयल, मोटर ओयल, उपकरण, मशीनरी उत्पाद, कंप्यूटर और इसके परिधीय, कंप्यूटर स्टेशनरी, अन्य स्टेशनरी आइटम, कागज और विभिन्न अन्य वस्तुएं रूस को निर्यात की सबसे पसंदीदा वस्तु हो सकती हैं। हालांकि, बड़े ब्रांडों के बजाय, भारत में छोटे उभरते ब्रांड सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी कीमतों पर गुणवत्ता वाले सामानों की आपूर्ति के लिए एक प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं।

भरतिया और  खंडेलवाल ने आगे कहा कि रूस पर प्रतिबंधों के कारण, निश्चित रूप से डॉलर के स्थान पर रुपया-रूबल में लेनदेन एक बेहतर विकल्प है। पता चला है कि रूस और भारत दोनों सरकारें स्विफ्ट की तर्ज पर दो देशों के बीच भुगतान तंत्र स्थापित करने पर सहमत हो गई हैं। यह निश्चित रूप से दो देशों के बीच व्यापार करने में आसानी लाएगा।

कैट के वाइस चेयरमैन  बृज मोहन अग्रवाल और राष्ट्रीय सचिव  सुमित अग्रवाल ने कहा कि भारत और रूस के बीच व्यापार के लिए दो तरह की रणनीति शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म को अपनाने की जरूरत है। अल्पकालिक नीति के तहत, तत्काल आवश्यकता की वस्तुओं को वरीयता दी जानी चाहिए और स्थायी आधार के लिए रूस में भारतीय उत्पादों की आपूर्ति के लिए अन्य वस्तुओं की पहचान की जा सकती है जिनका रूस में अच्छा बाजार हो सकता है।

अल्पावधि बहुत आवश्यक है क्योंकि दैनिक उपयोग की वस्तुओं, उपभोग्य सामग्रियों, खाद्य पदार्थों आदि के लिए और आपूर्ति के अभाव में निकट भविष्य में कमी हो सकती है और इसलिए उन वस्तुओं को तुरंत तेज करने की आवश्यकता है। रूस को भारत को रियायती मूल्य पर कच्चे तेल की आपूर्ति करने पर भी विचार करना चाहिए, हालांकि यह दोनों सरकारों को तय करना है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button