होम क्वारंटाइन का नियम को तोड़ते हैं, तो समझें कि आपकी खैर नहीं .. सरकार अब इस तरह से ट्रेस करके आपका लोकेशन पता लगाएगी

सूरत में कोरोना के मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। सूरत में फिलहाल उपचार की जरूरत नहीं हो ऐसे और किसी भी लक्षण नहीं हो ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है। बिना लक्षण वाले मरीजों में संक्रमण होने की संभावना अधिक होती है। पालिका प्रशासन इस तरह के मरीज को होम क्वारंटाइन करती है, लेकिन कुछ मरीज और उनके रिश्तेदार नियमों का उल्लंघन कर रहे है।
सूरत में कोरोना पॉजिटिव घोषित होने के बाद उन्हें होम क्वारंटाइन किया जाता है।

नगरपालिका संक्रमण को रोकने के लिए रोगियों और उनके रिश्तेदारों को होम क्वारंटाइन करती है, लेकिन कुछ लोग नियमों को तोड़ रहे हैं। लेकिन कुछ लोग नियमों का उल्लंघन कर रहे है, जिसके कारण संक्रमण बढ़ रहा है यह देखते हुए महानगरपालिका अब मरीजों का लोकेशन मोबाइल टावर से ट्रेस करेगी। जिसमें उल्लंघन की स्थिति में पालिका प्रशासन पुलिस शिकायत तक करेगी।

शिकायत को उल्लंघन नहीं हो इसके लिए महानगरपालिका ने एक टॉल फ्री नंबर भी जारी किया है। जिस पर मिली शिकायत के आधार पर महानगरपालिका ने पांच लोगों के खिलाफ पुलिस मामला दर्ज किया है। हालांकि शिकायत के बाद रोगी या उसके रिश्तेदारों का कहते है कि वह बाहर निकले ही नहीं और इस बात का कोई सबूत नहीं मिलता है जिससे विवाद होता है।

आधुनिक तकनीक का उपयोग करने जा रहे हैं। टेस्ट होने पर नगरपालिका मरीज का मोबाइल नंबर लेती है। निगम इन नंबरों के मोबाइल टॉवर का पता लगाएगा। यदि मरीज या उसके रिश्तेदार का मोबाइल नंबर टावर हाउस के बाहर पाया जाता है, तो पुलिस उसके खिलाफ नगर निगम के नियमों का उल्लंघन करने के लिए मामला दर्ज करेगी। निगम अब उन रोगियों और उनके रिश्तेदारों के बीच एक उदाहरण स्थापित करने के लिए मोबाइल टॉवरों का पता लगाकर कदम उठाएगा, जो पॉजिटिव होने के बावजूद दूसरों को संक्रमण फैला रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *