धर्म- समाज

श्रीहरि मंदिर रथ का हुआ लोकार्पण

श्रीहरि सत्संग समिति सूरत द्वारा शुक्रवार को श्रीहरि मंदिर रथ का लोकार्पण शुक्रवार को किया गया | श्रीहरि के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष सीए महेश मित्तल ने बताया कि श्रीहरि की रथ-योजना के अन्तर्गत देश के 64वें और सूरत चैप्टर की और से पांचवे रथ का लोकार्पण समारोह सूरत चैप्टर पदाधिकारियों एवं संस्था के सहयोगी बंधुगणों की उपस्थिति में सिटीलाईट स्थित महाराजा अग्रसेन भवन के पंचवटी हॉल में बहुत ही भव्यता के साथ किया गया।

इस रथ के दानदाता कुसुम अशोक टिबडेवाल ( भास्कर सिल्क मिल्स प्रा. लि. ) एवं कुसुम पुरूषोत्तम हिम्मतसिंहका (अनीश रियल्टर्स प्रा. लि. ), सूरत ने अपने स्वर्गीय माता-पिता की स्मृति में प्रदान किया। समिति के पदाधिकारियों द्वारा दानदाताओं का सम्मान किया गया।

समिति ने बताया की श्रीहरि मंदिर रथ से जाग्रत होगी वनवासियों में धार्मिक आस्था एकल अभियान के अन्तर्गत श्रीहरि सत्संग समिति देश के वनवासी समाज में साक्षरता के साथ-साथ संस्कार शिक्षा के माध्यम से धार्मिक आस्था जाग्रत कर रहीं है। श्रीहरि की कथाकार एवं रथ योजनाएं वनवासी समाज में संस्कारों एवं मानवीय मूल्यों के आदर्श स्थापित कर रहीं है।

इन योजनाओं से वनवासी समाज में नशामुक्ति की दिशा में आमूल-चूल परिवर्तन हुए हैं। लोग व्यसन त्याग कर अपने जीवन को उन्नत बना रहें हैं। जिससे देश का सामाजिक तानाबान सुदृढ़ हो रहा है और ग्रामीण एवं शहरी समाज एक दुसरे के निकट आये हैं- एक दूसरे को समझ सके हैं। इससे देश मजबूत होगा।

इस अवसर पर श्रीहरि के गुजरात प्रदेश अध्यक्ष रतनलाल दारुका, चैप्टर अध्यक्ष रमेश अग्रवाल, मंत्री विश्वनाथ सिंघानिया, वनबंधु परिषद के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल, मंत्री श्रीनारायण पेड़ीवाल, श्रीहरि के संस्थापक अध्यक्ष बाबूलाल मित्तल एवं संस्था के पदाधिकारी एवं शहर समाजसेवी धर्मप्रेमी भाई-बहन बड़ी संख्या में उपस्थित थे। रथ उदघाटन आयोजन में भागवत व्यास श्री गोपाल कृष्ण जी शास्त्री ने अपने आशीर्वचनों में श्रीहरि के संस्कार सिंचन कार्यों को अभूतपूर्व बताया।

इस अवसर पर एकल अभियान की राष्ट्रीय मकर संक्रांति योजना प्रभारी मंजु मित्तल, श्रीहरि महिला समिति की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विजयलक्ष्मी गाड़ीया, चैप्टर अध्यक्ष कुसुम सराफ, वनबंधु की I.P.P विजया कोकड़ा, अध्यक्ष आशिता नांगलिया, मंत्री ज्योति पंसारी, सुष्मा दारुका उपस्थित रहीं।

श्रीहरि के अध्यक्ष रमेश अग्रवाल ने बताया कि यह रथ उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के जन्मदाग्नी अंचल के वनवासी क्षेत्रों में भ्रमण करेगा। रथ द्वारा प्रतिदिन 2 वनवासी गावों में भ्रमण और तीसरे गाँव में रात्रि को दर्शन कार्यक्रम रहता है श्रीहरि के मीडिया प्रभारी कपीश खाटुवाला ने बताया कि रथ ऑडियो-विडियो उपकरणों से सुसज्जित है। गांवों में रामायण, महाभारत, श्रीराम, श्रीकृष्ण लीलाओं का दर्शन L.E.D स्क्रीन पर कराया जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button