उद्यमी स्वयं की लोजेस्टिक फर्म से करेंगे कारोबार, बिचौलियों को मिलेगा तगड़ा जवाब

राजस्थान मिनरल एसोसिएशन की बैठक आयोजित 
लोडिंग चार्जेस को लेकर की जा रही स्ट्राइक एक मनमानी : अग्रवाल 

उदयपुर (कांतिलाल मांडोत)। ट्रांसपोर्टर आर्गेनाइजेशन द्वारा लोडिंग चार्जेस को लेकर की जा रही स्ट्राइक के विरोध में राजस्थान मिनरल एसोसिएशन की बैठक आज ऑर्बिट रिसोर्ट में आयोजित की गई। एसोसिएशन के अध्यक्ष गोपाल अग्रवाल की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में उद्यमी धीरेन्द्र सिंह सचान, प्रकाश फुलानी , अशोक चौहान , अशोक ओझा , राजेंद्र पुरोहित, अनिल जैन , जीतेन्द्र सिंह राठोड ,जगदीश मोटवानी, अरविन्द मेहता , आशीष मित्तल , सुनील छाजेड सहित अन्य उद्यमियों ने हिस्सा लिया।

गोपाल अग्रवाल ने कहा कि बैठक में चर्चा के दौरान मुख्य रूप से यह बिंदु सामने आए की ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन की मांगें सर्वथा अनुचित और असंवेधानिक हैं | ट्रांसपोर्टर लेबर को लोडिंग चार्जेज देने के पक्ष में नहीं हैं जो की अतर्कसंगत है चूँकि पार्टी जो भाड़े का भुगतान करती है ,उसमे लोडिंग चार्जेज भी शामिल होता है ।ट्रांसपोर्टर की भूमिका तो एक बिचोलिये की है जो ट्रक मालिक एवं उद्यमी के बीच की कड़ी के रूप में कार्य करता है और इस बात के लिए बड़ा कमीशन खाता है|
ट्रक मालिक को लोडिंग चार्जेज देने की व्यवस्था से कोई नुक्सान नही है जबकि लोडिंग चार्जेज जोड़ कर ही बढ़ा हुआ भाड़ा उन्हें बताना है जो पार्टी दे रही है बल्कि वे इन बिचौलिये ट्रांसपोर्टर को कमीशन दे कर अपना नुक्सान कर रहे हैं |
अगर ट्रक मालिक यह सोचते हैं की डीजल के दाम  बढ़ने से उनका गहरा नुक्सान हो रहा है तो बेशक गाडी भाड़ा बढ़ा कर बताएं जो हम देने के लिए तैयार हैं मगर लोडिंग तो उनको देनी ही है |
मीटिंग में यह भी तय किया गया की सभी उद्यमी अपनी एक लॉजिस्टिक फर्म बनायेंगे तथा ट्रक मालिकों से बात करके गाडी उनसे ही लगवाएंगे । इससे यह फायदा होगा की ट्रक मालिकों को जो कमीशन या बिल्टी चार्जेज देना पड़ रहा था वोह अब नही देना पड़ेगा जो की एक बहुत बड़ी राशि होती है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *