प्रादेशिक

जम्मू एवं कश्मीर के अलगाववादी हत्यारों पर कठोर कार्रवाई और शिक्षकों की पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की मांग

उदयपुर ( कांतिलाल मांडोत )। राजस्थान विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय संघ (राष्ट्रीय ) ने कश्मीर में शिक्षिका रजनी बाला के हत्यारों पर कठोर कार्रवाई करने तथा शिक्षकों की पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था करने को लेकर जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल तथा केन्द्रीय गृहमंत्री को पत्र लिखकर अपना आक्रोश व्यक्त किया है। संगठन ने कश्मीर में अपने शिक्षकीय कर्तव्य पर जा रही शिक्षिका रजनी बाला की निर्मम और कायराना हत्या पर आक्रोश जताते हुए दु:ख व्यक्त किया है।

संघटन के महामन्त्री डॉ. सुशील कुमार बिस्सू ने बताया कि अलगाववादी तत्वों ने जिस निर्ममता से हत्या की है उससे राजस्थान विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय शिक्षक संघ राष्ट्रीय से जुड़े राज्य भर के शिक्षक अत्यंत स्तब्ध और आक्रोशित हैं।

पिछले कुछ समय से आतंकियों द्वारा कश्मीर घाटी में जिस तरह से लक्षित हत्याएं कर भय और अस्थिरता का माहौल बनाने का प्रयास हुआ है, उससे पूरा देश चिंतित है।

विद्यालय में अपने कर्तव्य निभाने हेतु जाती हुई शिक्षिका की हुई लक्षित हत्या से शिक्षक समुदाय के मन में कभी नहीं भरने वाले गहरे घाव देकर उन्हें आंदोलित कर दिया है।

अध्यक्ष डॉ दीपक शर्मा ने बताया कि शिक्षक अपने विद्यालय में सभी विद्यार्थियों को बिना भेदभाव के मनुष्य निर्माण और राष्ट्र निर्माण के लिए तैयार करता है। वह अपने शिक्षकीय कर्तव्यों को बिना भय के समुचित रूप से निभा सके इसके लिए उन्हें एक सुरक्षित और निर्भय वातावरण देने की जिम्मेदारी शासन की बनती है।

रुक्टा राष्ट्रीय पुरजोर मांग करता है कि कश्मीर घाटी में शिक्षकों को अपने कर्तव्य निर्वहन हेतु समुचित सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराई जाए तथा दिवंगत शिक्षिका के हत्यारों और उन हत्यारों को प्रश्रय देने वालों पर कठोरतम कार्रवाई की जाए।

संगठन यह भी मांग करता है कि दिवंगत शिक्षिका के परिवार को समुचित सम्मानजनक मुआवजा दिया जाए तथा उनके बच्चों के गुणवत्तापूर्ण उच्च अध्ययन तक की समुचित व्यवस्था निशुल्क कीजाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button