धर्म- समाज

गुरु मंदिर में ‘गुरुशक्ति अवतरण’ विधान

सूरत। आषाढ़ वद 1 गुरुवार के शुभ दिन पर गोपीपुरा के पु.सागरानंदसुरिजी म.सा. जो सागरजी महाराज के नाम से प्रसिद्ध हैं। गुरुदेव की समाधि पर स्थित गुरु मंदिर में ‘गुरुशक्ति अवतरण’ का एक अद्भुत कार्यक्रम अशोकसागर सुरीश्वरजी म. सा. के सानिध्य में संपन्न हुआ। 45 आगमों को बचाने वाले इस गुरुदेव ने सूरत में अथाह उपकार किया है।

सूरत के जौहरियों में आगम मंदिर का निर्माण भी जैनियों में धार्मिक चेतना जगाकर किया गया था। साथ ही 15 दिनों तक ध्यान मुद्रा में रहने के बाद गोपीपुरा लिमडा में उन्होंने स्वर्ग को प्राप्त किया।

गोपीपुरा की धार्मिक विरासत को संरक्षित करने के लिए, गुरुशक्ति नवपल्लवित बने इसलिए सागर चंद्र सागरसू के मार्गदर्शन में गुरु मंदिर में हवन के साथ पहला क्षेत्रजागरण विधान अनुष्ठान किया गया था।

गुरुमूर्ति के पवित्र पांच अभिषेकम, अवतरणविधान और 12500 पुष्पांजलि के साथ मंत्र जाप किया गया। इस अवसर पर सूरत के विभिन्न संघों के आचार्य, पदस्थ और बड़ी संख्या में साध्वीगण पहुंचे।

हर गुरुवार को गुरु मंदिर में श्रद्धालुओं को चावल दिया जाएगा। आदि-व्याधि-उपाधि को हराने वाले इस गुरुदेव का जप करने से स्मरण शक्ति बढ़ती है आस्था का स्थान बन गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button