Uncategorized

देश में मजबूत आर्थिक विकास का कारण है रिकॉर्ड जीएसटी कलेक्शन

अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए जरूरी है कि जीएसटी की मौजूदा दर में बदलाव न हो

सूरत: रूस-यूक्रेन युद्ध का असर न केवल भारत में बल्कि विश्व स्तर पर महसूस किया गया है। अधिकांश देशों में आर्थिक संकट, बढ़ती महंगाई ने कई देशों की अर्थव्यवस्था को कमजोर कर दिया है, लेकिन जिस तरह से भारत में हर महीने जीएसटी संग्रह के आंकड़े जारी किए जा रहे हैं, उसे देखते हुए भारतीय अर्थव्यवस्था अन्य देशों की तुलना में तेजी से बढ़ रही है।

दुनिया के अधिकांश देशों ने मुद्रास्फीति पर अंकुश लगाने और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए ब्याज दरें बढ़ाना शुरू कर दिया है, लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक अभी भी प्रतीक्षा और देखने के मूड में है क्योंकि भारत ने अभी तक ब्याज दरों में वृद्धि नहीं की है। हालांकि, निकट भविष्य में सामान्य वृद्धि की उम्मीद है। मार्च में जीएसटी कलेक्शन रिकॉर्ड स्तर पर था। अनुमान है कि अगले एक या दो महीनों में डेढ़ लाख करोड़ से अधिक की वसूली की जाएगी।

मार्च में ग्रोस गुड्स एन्ड सर्विस टेक्स बढ़कर रु. 1.42 लाख करोड़ हुआ है। यह एक महीने में अब तक का सबसे अधिक जीएसटी कलेक्शन है। मार्च का जीएसटी कलेक्शन को जनवरी 2022 में 1,40,986 लाख करोड़ रुपये का कलेक्शन का रिकार्ड तोड़ दिया है। मार्च में सीजीएसटी कलेकशन 25,830 करोड़, एसजीएसटी कलेक्शन 32,378 करोड़, IGST कलेक्शन 74,470 करोड़ रुपये और सेस 9,417 करोड़ रूपये था। वित्तीय साल 2022 के लिए मासिक GST 1.38 लाख करोड़ रुपये है।

देश की अर्थव्यवस्था में गुजरात का ग्रोथ तेज

गुजरात औद्योगिक उत्पादन, व्यापार और निर्यात के मामले में देश में शीर्ष पर रहा है। रसायन, कपड़ा, सिरामिक्स, फार्मा के साथ-साथ रत्न-आभूषण क्षेत्र में कोरोना के बाद तेज रिकवरी रही है। जिसके कारण गुजरात का ग्रोथ तेज हुआ है। सरकार ने मार्च माह में अभी तक का सबसे ज्यादा 1,42,095 करोड़ जीएसटी कलेक्शन किया, जिसमें गुजरात 9158 करोड़ के साथ महाराष्ट्र के बाद दूसरे नंबर पर है। रोजगार भी सृजित किया गया है।
– नेन्टी शाह, सीएमए

लैपटॉप-मोबाइल पर जीएसटी की दर बढ़ाई जाए

लैपटॉप और मोबाइल पर जीएसटी दरों को बढ़ाने की जरूरत है। जबकि रिटर्न हर महीने दाखिल किया जाना चाहिए जिससे देश के साथ-साथ राज्य की अर्थव्यवस्था की वृद्धि की स्थिति का पता चल सके। वित्तीय वर्ष 2022 में गुजरात ने 97155.59 करोड़ का रिकॉर्ड कलेक्शन किया था। चालू वित्त वर्ष में कलेक्शन 1.25 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचने की उम्मीद है।

– अतीत शाह, सीए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button