प्रादेशिक

हम सब मिलकर प्रयत्न करेंगे तो देश नई ऊंचाइयों पर पहुँचेगा: विधायक फुलसिंह मीणा

राष्ट्रीय गान के साथ तीन दिवसीय प्रदर्शनी का समापन

उदयपुर ( कांतिलाल मांडोत )।अपने देश की आजादी के लिए सर्वस्व बलिदान करने वाले सेनानियों से प्रेरणा लेकर यदि हम सब मिलकर प्रयत्न करेंगे तो निश्चित ही देश को नई उँचाइयों तक ले जा सकते हैं। हमें केवल शब्दों से नहीं, अपने कार्यों और प्रयासों से शहीदों को श्रद्धांजलि देकर आजादी के अमृत महोत्सव के आयोजन को सफल बनाना है। उक्त विचार उदयपुर ग्रामीण विधायक श्री फुलसिंह मीणा ने व्यक्त किए।

केंद्रीय संचार ब्यूरो, क्षेत्रीय कार्यालय-उदयपुर, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा राजकीय फतह उच्च माध्यमिक विद्यालय के सभागार में आयोजित तीन दिवसीय मल्टीमीडिया प्रदर्शनी के समापन के अवसर पर वह जनसमुदाय को संबोधित कर रहे थे।

उन्होने आगे कहा कि पिछले 75 सालों में देश को आगे बढ़ाने के लिए सबने मिलकर प्रयास किया है। लेकिन इन सालों में जो लोग अब तक सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित रहे हैं, उन्हें इन योजनाओं का लाभ बिना किसी सिफारिश के सिर्फ पात्रता के आधार पर मिल रहा है। उन्होंने कहा कि आज एक ऐसा नेतृत्व इस देश को मिला है जिसके पास चरित्र है, सोच है और देश के लिए समर्पण है। हमें भी उनके सपनों के अनुरूप इस देश के विकास में अपना योगदान देना चाहिए।

इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए जिला प्रमुख उदयपुर ममता कुंवर ने कहा कि देश में लोगों के कल्याण के लिए कौन-कौन-सी योजनाएं चल रही है एवं आजादी दिलाने मे किन-किन महानायको ने अपना योगदान दिया है, इसकी जानकारी इस मल्टीमीडिया प्रदर्शनी के माध्यम से पिछले तीन दिनों में लोगों ने ली है।

उन्होने कहा कि अब हम सबकी यह जिम्मेदारी है कि यह जानकारी हम उन लोगों तक पहुँचाएं जिनको इन योजनाओं की जरूरत है या जिनके लिए यह योजनाएं चलाई जा रही हैं। इन जानकारियों को धरातल तक पहुँचाने की जिम्मेदारी हम सबकी है साथ ही सामूहिक प्रयास की आवश्यकता पर बल दिया।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलेक्टर ओ. पी. बुनकर ने उपस्थित जनसमुदाय एवं युवाओ से अपील करते हुए कहा कि आप सब जागरूक नागरिक बनकर देश के निर्माण मे अपनी भागीदारी निभाए। उन्होने कहा कि देश के हर नागरिक को अपने काम को ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा करना चाहिए जिससे हम आजादी के महानायको द्वारा देखे गए सुनहरे भारत के निर्माण की परिकल्पना को साकार कर सकते हैं। उन्होने कहा कि इस प्रदर्शनी मे 1857 से लेकर 1947 तक के सम्पूर्ण इतिहास को दर्शाया गया है इस जानकारी को अपने जीवन मे उतारकर अमल करे।

प्रारम्भ में सहायक निदेशक रामेश्वर लाल मीणा ने अतिथितियों का स्वागत करते हुए कहा की इस प्रदर्शनी का शहर के शिक्षण सस्ंथानों के विद्यार्थियों के अलावा महिला एवं बाल विकास विभाग की कार्यकर्ताओ एवं सहायिका एवं बड़ी संख्या में आम नागरिकों एवं युवाओ ने अवलोकन कर विभिन्न गतिविधियों में सहभागिता की।

उन्होने बताया की इस प्रदर्शनी में आजादी का अमृत महोत्सव के साथ-साथ केंद्र व राज्य सरकार की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी प्रदर्शित की गई थी। इसके अलावा प्रदर्शनी स्थल पर कृषि विभाग, महिला अधिकारिता विभाग, जिला परिषद, महिला एवं बाल विकास विभाग, जनजातीय क्षेत्रीय विकास विभाग चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से स्टॉल लगाए गए थे।

इस अवसर अतिथियों द्वारा विभाग की ओर से प्रदर्शनी में विभिन्न स्टॉल लगाने वाले विभागों तथा प्रदर्शनी के आयोजन में सहयोग करने वालों अधिकारियो एवं कर्मचारियों को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर उपस्थित लोगों के लिए पुशअप, रस्सीकुद, देश भक्ति गीत-गायन, मौखिक प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन कर उन्हें अतिथियों के हाथों पुरस्कृत भी किया गया। इन तीन दिनों के दौरान विभिन्न विषयों पर विशेषज्ञ व्यक्तियों के व्याख्यान के साथ-साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन भी किया गया था।

इस अवसर पर विधायक एवं जिला प्रमुख तिरंगा बैज भी लगाया गया। इस अवसर पर विधालय के प्रधानाचार्य चेतन पानेरी, सहायक विकास अधिकारी हेम प्रकाश प्रजापत, कृषि पर्यवेक्षक सोरन सिंह जाटव, महिला पर्यवेक्षक शन्कुतला बैरवा, ग्लोबल इंसिटयूट ऑफ नर्सिंग कॉलेज की निकिता मेनारिया, अरिहंत नर्सिंग इंस्टियूट के अवतार मीना, सनराईज कॅंलेज आफ नर्सिंग के जितेन्द्र सिंह, मॉं गायत्री नर्सिंग कॉंलेज के पंकंज यादव, सरदारपुरा खेल छात्रावास के भूपेन्द्र सिंह उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button