लाइफस्टाइल

अभिनेता श्रीकौशल के उल्लेखनीय सामाजिक कार्य

गोस्वामी श्री कौशल हरिओमगिरी (जन्म 23 दिसंबर 1999), जिन्हें लोकप्रिय रूप से श्रीकौशल के नाम से जाना जाता है, एक भारतीय अभिनेता, निर्माता, व्यवसायी और परोपकारी व्यक्ति हैं, जो मुख्य रूप से गुजराती, हिंदी और मराठी थिएटर, टेलीविजन और फिल्मों में दिखाई देते हैं, वे अन्य भारतीय भाषाओं की परियोजनाओं में भी दिखाई देते है। वे कौशल & कौशल फिल्म्स के मालिक हैं। उन्हें डेस्टिनेशन जिंदगी (2020) में अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए श्री एम.वी.जे समाज मुंबई द्वारा प्राउड अवार्ड का सम्मान मिला हुआ है। 

श्रीकौशल के करियर की शुरुआत से देखा जाए तो उन्होंने सामाजिक कार्यों को काफी महत्व दिया है और अलग-अलग तरह से अपना योगदान दिया है, इसी तरह उनकी कुछ उल्लेखनीय कृतियों को हमने यहां प्रस्तुत किया है।

2020 में, श्री कौशल गोस्वामी ने “हरा है तो भरा है” अभियान का समर्थन किया और भारत को और अधिक सुंदर बनाने के प्रयास में अपने शहर में 50 से अधिक पेड़ लगाए, उन्होंने लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए 100 से अधिक गमले और पौधे भी दान किए और कहा की पेड हमारे सहयोगी हैं और वे हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

श्री कौशल गोस्वामी ने 23 दिसंबर 2020 को अपने शहर के कोविड वॉरियर्स से मुलाकात की और कोरोना राहत कोष के हिस्से के रूप में ₹25 हजार का दान दिया।

2021 में, श्री कौशल गोस्वामी ने “ईको विले” द्वारा आयोजित समुद्र तट सफाई अभियान में भाग लिया और मुंबई शहर के समुद्र तटों को साफ रखने के बारे में जागरूकता बढ़ाई।

श्री कौशल मई 2021 में “डीकेएमएस बीएमएसटी फाउंडेशन इंडिया” द्वारा आयोजित रक्त कैंसर जागरूकता बढ़ाने के अभियान का हिस्सा बने और इसमें शामिल होकर उन्होंने रक्त कैंसर के रोगी को सलाम किया और लोगों को उन्हें एक नया जीवन देने के लिए समझाया।

श्री कौशल ने गुजरात राज्य योग बोर्ड द्वारा आयोजित 100 घंटे के “योग ट्रेनर” प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया और इसके महत्व को समझाया और लोगों को इस कार्यक्रम में शामिल होने और खुद को स्वस्थ रखने और दूसरों को इस बारे मे जागरूकता लाने के लिए प्रभावित किया।

2022 में, श्री कौशल ने हाल ही में द पीपल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) के काम और सड़कों से भारतीय कुत्तों को अपनाने के उनके अभियानों को प्रोत्साहित किया, उन्होंने 4 पिल्ले को गोद लिया और जितना संभव हो सके अपने शहर में अन्य कुत्तों को खिलाने की जिम्मेदारी ली।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button