सेमी परमानेंट मेकअप में दिग्गज कंपनी विक्ट्रेस ब्यूटी एकेडमी ने अब सूरत में कदम रखा

सूरत :  सेमी-परमानेंट मेकअप में दिग्गज कंपनी विक्ट्रेस ब्यूटी एकेडमी ने सूरत से गुजरात के बाजार में प्रवेश करने की घोषणा की है। यह वेंचर मुंबई के प्रमुख टैटू स्टूडियो ऐस टैटूज और कनाडा से परमानेंट मेकअप में ग्लोबल मास्टर रमन चौहान के बीच आपसी साझेदारी में खोला जाएगा। लंबे समय तक चलने वाले मेकअप सोल्यूशंस और बेहतर रिजल्ट चाहने वाले ग्राहकों के लिए ब्रैंड जल्द ही सूरत में आधुनिक तकनीक से लैस पीएमयू स्टूडियो लॉन्च करेगा। अंतरराष्ट्रीय मानकों पर पूरी तरह खरी उतरने वाली प्रमुख सेमी परमानेंट ब्यूटी एकेडमी पहली बार गुजरात में अपने कदम रख रही है।

विक्ट्रेस ब्यूटी एकेडमी के सह-संस्थापक निखिल भानुशाली ने सूरत में ब्यूटी एकेडमी लॉन्च करने की घोषणा करते हुए कहा, हमें अपना पहला ट्रेनिंग प्रोग्राम सूरत शहर में आयोजित करते हुए काफी प्रसन्नता हो रही है। हमने यहां की महिलाओं में लेटेस्ट ग्लोबल ब्यूटी ट्रेंड्स की और झुकाव देखा है। हमारा विश्वास है कि सेमी परमानेंट मेकअप के विकास के लिए सूरत के मार्केट में काफी संभावनाएं हैं। दुनिया भर के बहुत सारे पश्चिमी देशों में इस सेग्मेंट का काफी तेजी से विस्तार हो चुका है।

यह अभी तक भारत में शैशवास्था में है। हमारा मिशन अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार बेस्ट ट्रेनिंग और ट्रीटमेंट देना है। इसलिए हम जल्द ही सूरत में अपना फ्लैगशिप पीएमयू स्टूडियो लॉन्च कर रहे हैं। हमें काफी आशा है कि इस क्षेत्र में हमारी सर्विसेज को हाथों हाथ लिया जाएगा और काफी संख्या में  लोग इसे स्वीकार करेंगे।

विक्ट्रेस ब्यूटी एकेडमी सेमी ट्रीटमेंट मेकअप एप्लिकेशंस में प्रैक्टिकल ट्रेनिंग, ग्लोबल तकनीक और ट्रीटमेंट का ऑफर देती है। यहां ग्राहकों को ब्यूटी ट्रीटमेंट के अलग-अलग रेडिमेड पैकेज दिए जाते हैं, जिनमें माइक्रोब्लेडिंग, कॉम्बिनेशन ब्रोज, ओंब्रे पाउडर ब्लोज, लिप ब्लश, लिप करकेशन और लैश एक्सटेंशन शामिल है। विक्ट्रेस ब्यूटी एकेडमी की फ्लैगशिप इकाई ऐस टैटूज़ अपनी स्टाइलिश टैटू की नई लहर की पेशकश के लिए जिम्मेदार हैं, जिसमें भगवान के टैटू, कार्टून, पोट्रेट, पशु पक्षियों, वास्तविक आभास देने वाले टैटू से लेकर अलग-अलग इमोशंस को झलकाने वाले भावनात्मक टैटू शामिल हैं।

इस स्टूडियो में कई मशहूर सितारे आ चुके हैं, जिसमें रेमो डिसूजा, रणबीर सिंह समेत अन्य लोग शामिल हैं। आज यह ब्रैंड भारत और विदेश के टैटू प्रेमियों के लिए एक लोकप्रिय नाम बन चुका है।

 सेमी परमानेंट मेकअप कॉस्मेटिक टैटूइंग के नाम से भी लोकप्रिय है। इसे माइक्रोपिग्मेंटेशन भी कहा जाता है।  यह दुनिया भर में ब्यूटी इंडस्ट्री की सबसे तेजी से विकसित होती विशेषताओ में से एक है। यह बाहरी त्वचा के नीचे स्किन की अंदरूनी परत में पिग्मेंट डालने की प्रक्रिया है, जिससे काफी लंबे समय तक रहने वाले और स्वाभाविक दिखने वाले नतीजे ग्राहकों को मिलते हैं। इस ट्रीटमेंट को भविष्य में शानदार लुक्स पाने का तरीका कहा जा सकता है।

इधर कुछ सालों में अपनी आइब्रोज़ को सुंदर बनाने के प्रति लोगों में काफी जागरूकता आई है। इससे आइब्रो पर टैटू की तकनीक पूरी दुनिया में काफी तेज रफ्तार से बढ़ी है। अब फुल लिप्स में लोगों की दिलचस्पी बढ़ती जा रही है। सेमी परमानेंट लिप कलरिंग की मांग भी धीरे-धीरे जोर पकड़ रही है। अधिकतर माइक्रो पिग्मेंटेशन ऐप्‍लीकेशंस और ट्रीटमेंट में कुछ घंटों का समय लगता है, जबकि इसके ट्रीटमेंट का असर रेगुलर टचअप्स के साथ कुछ सालों तक रहता है।

अगर आप रोजाना अपनी पूरी आइब्रोज़ बनाने से तंग आ गए हों तो आंख की आइब्रोज़ का माइक्रो पिग्मेंटेंशमन एक आदर्श समाधान है। माइक्रोब्लेडिंग कुदरती दिखाई देने वाली सेमी परमानेंट टैटू की कलाकारी का एक रूप है, जो आइब्रोज़ को फिर से बनाने, उन्हें नई परिभाषा देने, उनका दायरा बढ़ाने और कम घनी आइब्रोज़ को घना बनाने के काम आता है। ओंब्रे पाउडर ब्रोज सेमी परमानेंट मेकअप के सबसे ज्यादा पसंद लिए जाने वाले स्टाइल्स में से एक है।

इस स्टाइल में खूबसूरत आइब्रोज़ ऑफर की जाती है,  जिस पर मेकअप नजर आता है। इस तकनीक के नतीजों के तौर पर सामने के धुंधले हिस्से के साथ आईब्रोज पाउडर लगी होने का अहसास कराती है। इस प्रक्रिया में आइब्रोज़ को एक घुमावदार नुकीली पूंछ का आकार दिया जाता है,  जिससे लगता है कि आइब्रोज़ का मेकअप किया गया है।

होठों के  माइक्रो पिग्मेंटेशन के साथ आप अपने होंठों के कुदरती रंग की खूबसूरती और बढ़ा सकते हैं। उन्हें फुलर लुक देकर और खूबसूरत बना सकते हैं।  लिप ब्लश होठों के कुदरती रंग की खूबसूरती को निखारता है, उनको सही आकार में लाता है। होंठों में एक पूर्णता और परिभाषा जोड़ता है। इस ट्रीटमेंट की मदद से होठों के धुंधले होते रंगों को ठीक किया जाना संभव है।

यह समस्या ज्यादातर उम्र बढ़ने से जुड़ी होती है। लिप करेक्शन एक ऐसी प्रक्रिया है, जिससे किसी भी व्यक्ति के होठों के रंगों को बढ़ाया जा सकता है। होठों का काला पड़ना बहुत ज्यादा पिगमेंटनेशन का भी नतीजा हो सकता है। ये सभी प्रक्रियाएं काफी कुदरती नजर आती हैं। इससे आप स्वाभाविक तौर पर ज्यादा सुंदर दिखते हैं। इससे आप में वह आत्मविश्वास आता है, जो आपके लिए बहुत जरूरी है।

दुनिया भर में मेडिकल तरीके से खूबसूरती  बढ़ाने के कारोबार के 2024 में 26.53 बिलियन अमेरिकी डॉलर  तक पहुंचने की संभावना है। 2016 में इस इंडस्ट्री का कारोबार 10.12 बिलियन अमेरिकी डॉलर का रहा था। 2017 से 2024 तक इस कारोबार के सीएजेआर (चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर)  में 12.8 फीसदी तक बढ़ोतरी होने की संभावना है। अमेरिका, कनाडा, इंग्लैंड  और यूरोप के ब्यूटी मार्केट्स में अलग-अलग वर्गों से संबंधित लोगों के आने में काफी तेजी आई है।

इसमें जीवन के सभी क्षेत्रों, पृष्ठभूमि, रंगों, पुरुषों और स्त्रियों के साथ थर्ड जेंडर के लोग भी आ  रहे हैं। इन लोगों ने अपनी शख्सियत को संवारने के लाभों का स्वागत किया है। इधर कई सालों से हमने भारतीय बाजारों में परमानेंट मेकअप (पीएमयू) एप्‍लीकेशंस की बढ़ती हुई मांग देखी है।

इसका क्रेडिट बदलते लाइफस्टाइल और ट्रेंड को देना चाहिए।  2023 तक पीएमयू सेग्मेंट का काफी तेजी से विस्तार करने और ग्लोबल मार्केट में भी एक बड़ी हिस्सेदारी पर इस सेग्मेंट का  कब्जा होने की भविष्यवाणी की गई है। अधिक जानकारी के लिए www.victressbeautyacademy.com पर जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *