प्रादेशिक

विकल्प संस्थान की और से 15 दिवसीय आवासीय “मेरी खुशी कैम्प” का आयोजन

उदयपुर ( कांतिलाल मांडोत )। विद्या निकेतन गोगुन्दा में किया जा रहा है । जिसमे गोगुन्दा ब्लॉक के 10 गाँव की 40 लड़कियां भाग ले रही है। विकल्प संस्थान की सचिव उषा चौधरी ने बताया कि यह कैम्प लड़कियों को एंग्लिश ,जीवन कौशल, सेल्फ डिफेन्स सिखाने और व्यक्तित्व विकास के लिए किया जा रहा है। इन सभी लड़कियों का एक्सपोजर वीसीत गोगुन्दा के विभिन्न विभाग में किया गया।

पुलिस थाने की विजिट के दौरान थानाधिकारी आई. पी.स. डॉक्टर सुशील विश्नोई ने लड़कियों को अपने जीवन की आईपीएस बनने तक से सफर के बारे में बता कर लड़कियों का उत्साह वर्धन किया। लडकिया भी जीवन मे सब कुछ कर सकती है ।मैं भी सरकारी स्कूल में पढ़ कर ही यहां तक पहुचा हु। इसलिए आप भी पहुच सकती हो।

पूरे थाने के सभी व्यवस्थाओं को दिखाते हुए थाने के दिव्तीय अफसर हेमराज जी द्वारा लड़कियों को उनके अधिकारों के बारे में जानकारी दी और उन्हें थाने से डरने की जरूरत नही है थाना उनकी मदद के लिए ही है । महिलाओ और लड़कियों की मदद के लिए महिला डेस्क और महिला कॉन्स्टेबल थाने में अलग से है इसलिए उन्हें भी अपनी समस्या सुना सकते है वो आपकी मदद भी करेगी और वो महिला है तो आपको डर भी नही लगेगा।

पंचयात समिति की विजिट के दौरान गोगुन्दा के विकास अधिकारी द्वारा लड़कियो को देश में विभिन्न कार्यो में अपना और देश का नाम करने वाली लड़कियों के उदहारण देकर उनको प्रेरित किया । आप सभी भी इन सब लड़कियों की तरह से अपना और अपने माता पिता का नाम ऊंचा कर सकती हो और अपने जीवन मे सफल हो सकती हो । पढ़ कर नोकरी करके ही सभी लडकिया अपने जीवन में आत्मनिर्भर बन सकती है और जेंडर भेदभाव को तोड़ सकती है। उन्हीने पंचयात समिति के कार्यो से भी लड़कियों को अवगत करवाया।
लडकिया कैम्प में अपने जीवन के सपने देख रही है और उनको पूरा करने की आयोजना भी साथ साथ बना रही है।

वसनी गमेती टीचर बनानां चाहती है तो सुमित्रा मेघवाल पुलिस कांस्टेबल बनानां चाहती है तो निर्मला गमेती आईएएस गंगा गमेती सचिव बनानां चाहती है इस तरह कैम्प में लडकिया अपने जीवन मे सपने देख कर उन्हें पूरा करने के पंखों पर सवार है। मेरी खुशी कैम्प की व्यवस्थापिका मधु माला ने कहा कि यहां आकर लडकिया बहुत खुश है और उनमें पढ़ने जीवन मे आगे बढ़ने की ललक जाग रही है जो देख कर अच्छा लगता है। विकल्प हेल्पलाइन और सपोर्ट सेंटर के बारे में सविता चदाणा और शमीना बानो ने बाल विवाह रोकथाम के बारे में लड़कियों को जानकारी दी और जागरूक किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button