प्रादेशिक

गोगुन्दा में ईसरजी के साथ चली गौर माता,गणगौर मेले का आगाज

सोलह दिवसीय लोकपर्व गणगौर की पूर्णाहुति

उदयपुर ( कांतिलाल मांडोत )। राजस्थान में गणगौर का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। गणगौर के सोलह दिवसीय लोकपर्व की भावभीनी विदाई के साथ ही पर्व की पूर्णाहुति हो गई। गणगौर के इस महापर्व पर शोभायात्रा भी निकाली गई। गोगुन्दा के चौगान में इस पुरानी और पारम्परिक गणगौर पर्व की पूर्णाहुति पर कस्बे शहीत गांवो से लोगो ने आकर विशिष्ट पर्व की विदाई निहाली। इसके पूर्व गत दिन गणगौर की विदाई के गीत महिलाओ के साथ युवतियों ने गाए।

सोमवार शाम तक गणगौर विदाई के साथ विराम लग गया। महिलाओ ने आकर्षक परिधान में सजधज कर गणगौर उत्सव में भाग लिया। शोभायात्रा में सैकड़ो महिलाओं ने भाग लिया। गीतों के साथ महिलाओ ने बड़ी संख्या में भाग लिया। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति दी गई। चौराहा पर आज से शुरू हुए गणगौर मेला तीन दिन तक चलेगा।

गोगुन्दा में लगने वाले मेले का आयोजन विशाल स्तर पर होता है। पिछले दो वर्षों से कोरोना की महामारी के कारण मेले को निरस्त किया गया। इस बार पूरे शबाब पर है। दूर दूर से मेलार्थियों का आगमन हुआ है। मध्यप्रदेश और यूपी से लोग आकर मेले में दुकानें सजाते है।झूले और मौत का कुआ आकर्षक का केंद्र बना हुआ है।

आगामी छह अप्रैल तक चलने वाले इस मेले में हजारो लोगो का आवागमन होगा। नए नए परिधान पहनकर आदिवासी महिलाओं सहित क्षेत्र के सैकड़ो गांवो के लोगो की आवाजाही शुरू हो गई है। इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लिए गोगुन्दा पुलिस के जवान गस्त लगाते हुए नजर आए।गोगुन्दा पुलिस मुश्तैद नजर आई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button