लाइफस्टाइल

प्रिया ग्रेवाल: नारी शक्ति का उभरता चेहरा

प्रिया ग्रेवाल ने अपनी यात्रा उत्तर भारत के भिवानी (हरियाणा) नामक एक छोटे से शहर से शुरू की। उनका जन्म एक किसान परिवार में हुआ इनके पिता अजीत सिंह एक जाने पहचाने व्यक्ति है वो अपने गावो के सरपंच भी रहे।

प्रिया जी अपने स्कूल के दिनों से ही बहुत होशियार छात्रा रही। वो अपने स्कूल के हर कार्यकर्म में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेती थी। वो आम लड़कियों की तरह बिलकुल भी नहीं थी। बचपन से ही उनका व्यक्तित्व एक समाज सुधारक के रूप में दिखने लगा था। हमेशा से गरीबो और जरुरत मंदो की मदद करती थी। बोलते हैं ना की पूत के पाओ पालने में ही दिख जाते है। देशभक्ति तो बचपन से ही उनके दिल में रही। वो हर देशभक्ति व  सामाजिक कार्यो के काम में हमेशा आगे रही।

जैसे ही इन्होने कॉलेज में दाखिला लिया वहा इनका देशभक्ति का जुनून सरचढ़ कर बोलने लगा। यहां पर एक कुशल नेता की तरह अपना काम किया और इनका लोहा लोगो ने माना।  इनका जुनून और संकल्प था की वो हमेशा  समाज कल्याण, किसान भाई, नारी शक्ति और गरीबो के लिए काम करगी। बाकी लड़कियों की तरह अपने जीवन नहीं निकलने देगी उसके विपरीत वो सब से हटकर एक अलग ही पहचान बनाएगी इस समाज में। एक मिसाल की तरह अपने आप को सबके सामने प्रस्तुत करेगी।

इनकी शादी एक सैनिक परिवार में हुई । इनके ससुर रणधीर सिंह कारगिल युद्ध में शहीद हुए जिनको बाद में  कारगिल वीर चक्र से सम्मानित किया गया।

किसान भाईयों हित के लिए इन्होने बहुत काम किया। हर किसान आंदोलन का हिस्सा रही और उनके हक के लिए हमेशा लड़ी। यह खुद एक किसान परिवार में पैदा हुई। किसानो के दर्द को दिल से महसूस कर सकती है ।

आज लोग इनको एक लीडर की तरह जानते है की प्रिया जी ने क्या क्या कार्य  किया समाज कल्याण और नारी कल्याण के लिये । गरीबों के लिए एक मिसाल बन कर हमेशा सामने आई. इन्होने लोगो की आवाज़ बनकर हमेशा उनके लिए और उनके हित के लिए आवाज़ उठाई । गरीबों और किसान भाइयो की झुग्गी में जाकर उन सबकी  समस्याओ  को सुना और उनके लिए जो भी मुमकिन हो सका वो सब किया । तभी आज लोग उनके साथ और उनके समर्थन में खड़े है जो भी वो बोलती है लोग सुनते है। क्यूंकि वो जानते है की अगर कोई उनके साथ खड़ा है तो वो सिर्फ प्रिया जी ही है| इन्होने आज कई गरीबो के बच्चो को पढ़ाने का जिम्मा उठाया हे और कर के भी दिखाया है।

यह आज की पीढ़ी का एक उभरता हुआ सितारा है जो नारी पर अत्याचार बर्दाश्त नहीं कर सकती और गरीबों और किसान भाइयो का दुःख देख नहीं सकती ।

इन्होने भविष्य में लोगो की सेवा के  लिए और किसानो के कल्याण के लिए किसान कांग्रेस पार्टी के सहयोग से यह संकल्प लिया है की वो सबके हक़ के लिए लड़ेगी चाहे उनको उसके लिए किसी से भी क्यों ना लड़ना पड़े।  हर हाल में वो गरीबों और जरुरतमंदो की मदद  करेगी। यही एक सच्चे नेता की पहचान है और यह आज किसान कांग्रेस पार्टी की समन्यक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button