सूरत

: बहू ने सासुमा का अग्निसंस्कार किया तो देवरानी ने भाभी को लीवर दान किया

सवानी परिवार द्वारा अंगदान के लिए 50 हजार से अधिक संकल्प लिए जाएंगे

सूरत: सास, भाभी, देवरानी-जेठानी, इस रिश्ते को याद करते हैं तो अक्सर नफरत, खटास और झगड़े की कठोर आवाज सुनाई देती है। लेकिन यह हर जगह सच नहीं है। सूरत की सेवा और सामाजिक क्रांति में अग्रणी सवाणी परिवार ने इन दोनों रिश्तों में एक नया आयाम रचा है। सामाजिक अवसरों पर समाज के लिए नई उम्मीदें बनाने वाला परिवार अपने दुखद समय में भी समाज के लिए नई उम्मीदें स्थापित करना नहीं भूले हैं।

घटना कुछ ऐसी है, सवाणी परिवार के मावजीभाई सवाणी (एल. पी. सवाणी ग्रुप) की गॉडमदर श्रीमती वसनबेन सवाणी का शुक्रवार, 24 जून को जेठ वद अगियारस का निधन हो गया। ऐसे तो कब्रिस्तान में दाह संस्कार के लिए बेटे को प्राथमिकता दी जाती है। हालांकि सामाजिक परिवर्तन की हवाओं के चलते अब अक्सर बेटियों को दाह संस्कार करते देखा जाता है। लेकिन क्या आपने कभी किसी बहू को अपनी सास का अंतिम संस्कार करते सुना है? सवाणी परिवार में यह अकल्पनीय बात हकीकत बन गई है।

स्वर्गीयश्रीमती वसनबेन मावजीभाई सवाणी उनकी बहू पूर्वी धर्मेंद्रभाई सवाणी, जो पिछले कई दिनों से की सेवा कर रही थीं, श्मशान घाट में साथ गईं और बहु ने ससुमा के सभी अंतिम संस्कारों में समान रूप से भाग लिया और दाह संस्कार भी किया। सासुमा का अंतिम संस्कार करते ही पूरवीबेन फूट-फूट कर रोने लगी।

सवाणी परिवार ने बहू को पुत्र का अधिकार देकर सामाजिक क्रांति की मिसाल कायम की है। न केवल शब्दों से बल्कि व्यवहार से भी, ऐसे अच्छे विचारों वाले सवाणी परिवार ने दर्शाया की खून का रिश्ता ही नहीं निभाने वाले भी निभाते हैं। कहानी यहीं खत्म नहीं होती। अगर हम वसनबेन की मृत्यु से कुछ समय पहले अतीत में जाते हैं।

वासनबेन मावजीभाई सवानी का लीवर प्रत्यारोपण हुआ था और कुछ समय से अहमदाबाद में उनका इलाज चल रहा था। उस समय नफरत और बदले की भावना में सबसे आगे रहने वाली तथाकथित देवरानी जेठानी के बीच संबंधों का एक भावनात्मक अध्याय यहीं बना था। जेठानी वसनबेन की जान बचाने के लिए उनकी देवरानी शोभाबेन हिम्मतभाई सवाणी ने अपनी जान जोखिम में डालकर एक “लिवर” दान कर दिया।

डॉक्टरों और परिवार के सभी सदस्यों ने पूरी कोशिश की लेकिन हम जानते हैं कि हम ईश्वर की शक्ति के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन इस घटना ने उन दोनों के बीच एक नया और मधुर रिश्ता स्थापित कर दिया। एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि वसनबेन को श्मशान में लकड़ी के बजाय बिजली की आग से जलाकर पर्यावरण को भी संरक्षित किया गया था।

इस प्रकार, कई वर्षों से, सवाणी परिवार शैक्षिक, अस्पताल के साथ-साथ सामाजिक कार्यों में भी सबसे आगे रहा है। आज भी सवाणी परिवार एलपी सवाणी समूह, पीपी सवाणी समूह जैसे कई संगठनों के माध्यम से सामाजिक कार्य करता है। सवाणी परिवार के पूर्वजों के माध्यम से आने वाली नई पीढ़ी में भी इस तरह के संस्कारों का निरंतर समावेश हो रहा है।

धर्मेंद्रभाई मावजीभाई सवाणी ने कहा कि उनकी मां वसनबेन सवाणी को “लिवर” पाने में मुश्किल हुई थी और समाज के लोगों के लिए समस्या को हल करने के तरीके के बारे में अधिक पहल करके लोगों में जागरूकता पैदा करने की कोशिश करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button